Breaking News

अहोई अष्टमी : माताएं रखेंगी निर्जला व्रत, संतान का होगा कल्याण

JTV NEWS | Admin

Updated on : October 20, 2019


अहोई अष्टमी : माताएं रखेंगी निर्जला व्रत, संतान का होगा कल्याण


नई दिल्ली।संतान की दीर्घायु और कल्याण के लिए माताएं अहोई अष्टमी का व्रत रखेंगी। दिनभर भूखी प्यासी रहकर माताएं तारामंडल के उदय होने पर तारों को अर्घ्य देकर व्रत खोलेंगी और कुछ माताएं चंद्रमा को अर्घ्य देकर व्रत खोलेंगी। कार्तिक मास में कृष्ण पक्ष अष्टमी को अहोई माता का व्रत रखा जाता है। इस दिन अहोई माता की पूजा की जाती है। अहोई व्रत रखकर माताएं अपनी संतान की रक्षा और दीर्घायु के लिए प्रार्थना करती हैं। जिन लोगों को संतान सुख प्राप्त नहीं है उनके लिए यह व्रत विशेष रूप से फलदायी है। अहोई के दिन विशेष उपाय करने से संतान की उन्नति और कल्याण का मार्ग प्रशस्त्र होगा।

इस बार अहोई अष्टमी के दिन चंद्रमा पुण्य नक्षत्र में रहेगा। इस दिन साध्य योग और सर्वाथ सिद्धि योग बन रहा है। इस कारण अहोई अष्टमी की पूजा का समय और भी ज्यादा विशेष बन रहा है। 21 अक्तूबर को शाम पांच बजकर 42 मिनट से शाम छह बजकर 59 मिनट तक पूजा का शुभ मुहुर्त रहेगा। इस मुहुर्त में माताएं अहोई अष्टमी की पूजा करें। इसके साथ ही इस दिन अभिजीत मुहुर्त और अमृत काल मुहुर्त होने के कारण पूजा का शुभ फल प्राप्त होगा। पूजन के लिए दीवार पर अहोई माता की तस्वीर बनाई जाती है। फिर रोली, चावल और दूध से पूजन किया जाता है। इसके बाद कलश में जल भरकर माताएं अहोई अष्टमी कथा का श्रवण करती हैं। इसके बाद रात में तारों को अर्घ्य देकर संतान की लंबी उम्र और सुखदायी जीवन की कामना करने के बाद अन्न ग्रहण करती हैं।

इस आलेख में दी गई जानकारियां धार्मिक आस्थाओं और लौकिक मान्यताओं पर आधारित हैं, जिसे मात्र सामान्य जनरुचि को ध्यान में रखकर प्रस्तुत किया गया है।



leave a comment

आज का पोल और पढ़ें...

फेसबुक पर लाइक करें

ट्विटर पर फॉलो करें


व्यापार सभी ख़बरें पढ़ें...

धर्म संस्कृति सभी ख़बरें पढ़ें...