Breaking News

एक छोटा सा कदम काफी है बदलाव के लिए

JTV NEWS | Admin

Updated on : May 29, 2020


एक छोटा सा कदम काफी है बदलाव के लिए


नई दिल्ली। एक प्रक्रिया है बदलाव, जो अचानक नहीं होती इसके लिए समय लगता है लेकिन बदलाव के लिए एक छोटा-सा कदम ही काफी है। आप इस कहानी को पढ़कर इस बात का अंदाजा लगा सकते हैं-

एक लड़की  सुबह-सुबह दौड़ने को जाया करती  थी।  आते जाते वो एक बूढ़ी महिला को देखती  थी । वो बूढी महिला तालाब के किनारे छोटे-छोटे कछुए की पीठ को साफ किया करती थी। एक दिन उसने इसके पीछे का कारण जानने की सोची। वो लड़की  महिला के पास गई  और उनको नमस्कार  कर  के बोली , मैं आपको हमेशा इन कछुओं की पीठ को साफ़ करते हुए देखती  हूं आप ऐसा किस वजह से करती  हो? महिला ने लड़की  को देखा और जवाब दिया मैं हर रविवार यहां आती हूं और इन छोटे-छोटे कछुओं की पीठ साफ़ करते हुए सुख शांति का अनुभव लेती हूं। क्योंकि इनकी पीठ पर जो कवच होता है उस पर कचरा जमा हो जाने की वजह से इनकी गर्मी पैदा करने की क्षमता कम हो जाती है इसलिए ये कछुए तैरने में मुश्किल का सामना करते है। कुछ समय बाद तक अगर ऐसा ही रहे तो ये कवच भी कमजोर हो जाते है इसलिए कवच को साफ़ करती हूं।

यह सुनकर लड़की बड़ी हैरान रह गई । उसने फिर पूछा बेशक आप बहुत अच्छा काम कर रही हो  लेकिन फिर भी आंटी एक बात सोचिए कि इन जैसे कितने कछुए है जो इनसे भी बुरी हालत में है जबकि आप सभी के लिए ये नहीं कर सकते तो उनका क्या क्योंकि आपके अकेले के बदलने से तो कोई बड़ा बदलाव नहीं आएगा।

महिला ने कहा भले ही मेरे इस कर्म से दुनिया में कोई बड़ा बदलाव नहीं आएगा लेकिन सोचो इस एक कछुए की जिन्दगी में तो बदलाव आएगा, तो क्यों हम छोटे बदलाव से ही शुरुआत करें।



leave a comment

आज का पोल और पढ़ें...

फेसबुक पर लाइक करें

ट्विटर पर फॉलो करें


व्यापार सभी ख़बरें पढ़ें...

धर्म संस्कृति सभी ख़बरें पढ़ें...